About Me

नमस्कार मित्रों,


मैं राजेश बावरिया,
    अपने विचारों को पढने  के लिए आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ, मेरे सारे लेखों को मैं अपने परमेश्वर को और अपने पढने वालों को समर्पित करता हूँ मैं अपने परिवार अर्थात पत्नी मोनिका और दोनों बच्चों (सामऔर स्तुति) का भी धन्यवादी हूँ जिन्होंने मुझे हमेशा लिखने के लिए प्रेरित किया और सुधार भी किया.

मैं लोगों को उनकी सच्ची क्षमता का एहसास कराने में प्रेरित करने का प्रयास करता हूँ. मैं स्वयं बाईबल से प्रेरित हूँ, और विश्वास करता हूँ हमारा कर्ता परमेश्वर ही सबसे महान प्रेरक है. इसलिए मैं जो कुछ लिखता हूँ वह पवित्र शास्त्र से ही प्रेरित होता है

यदि मेरा लिखना बोलना या कोई भी विचार किसी भी व्यक्ति को प्रेरित करता है यह मेरे लिये एक प्रेरणा की बात होगी,
उद्देश्य :- इन लेखों का मुख्य उद्देश्य लोगों को आनन्दित और खुशहाल जीवन जीने के लिए प्रेरित करना है.  इन लेखों को नए विश्वासियों के लिए और सामान्य जन समुदाय के लिए लिखा गया है...यदि कोई भी इन विचारों से असहमत हो तो क्रप्या इन्हें सकारात्मक रूप से नजरंदाज करें. लेखों में जो भी कहानियाँ सम्मलित हैं उन्हें मैंने अलग अलग सेमिनार में सुना है पत्रिकाओं में पढ़ा है इसलिए उनका स्त्रोत लिखना संभव नहीं हो पाया मेरे लेखों में किसी भी धर्म सम्प्रदाय या जाति समूह को ठेस पहुंचाना या नीचा दिखाना मेरा उद्देश्य नहीं है
मेरी 20 साल की इस मसीही यात्रा में, अपने अध्ययन, सोच-समझ और तजुर्बे ने लोगों को खुद पर विशवास और खुशहाली के रास्ते में सहायता की है.
मैं ऐसा क्यों करता हूँ क्योंकि मेरा विश्वास है

जैसा कि पवित्रशास्त्र में लिखा है

 "यदि हम दूसरों की खेती को सीचेंगे तो हमारी भी खेती सीचीं जाएगी"
Rajesh Bavaria 
rajeshkumarbavaria@gmail.com
Delhi 

3 comments:

  1. प्रभु में और अधिक बढ़ते रहिये और लोगों को भी प्रभु में बढ़ाते जाइए। प्रभु आपके लेखन के वरदान को बहुतायत की आशीष दे।

    ReplyDelete
  2. Thank you sir for...good bible stories... I am vary happy to read Ur stories.

    ReplyDelete
  3. Thank you sir for Bible stories I am very happy to read all your Bible stories...

    ReplyDelete

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

तोड़े को तुरंत इस्तेमाल करें ....

*तब जिस को पांच तोड़े मिले थे, उस ने तुरन्त जाकर उन से लेन देन किया, और पांच तोड़े और कमाए।*(मत्ती 25:16) प्रभु यीशु मसीह के अतुल्य ना...

Followers