Friday, June 12, 2020

यहोवा की भुजा (कलीसिया) जाग

*हे यहोवा की भुजा, जाग! जाग और बल धारण कर; जैसे प्राचीनकाल में और बीते हुए पीढिय़ों में, वैसे ही अब भी जाग। क्या तू वही नहीं है जिसने रहब को टुकड़े टुकड़े किया और मगरमच्छ को छेदा?* (यशायाह 51:9)

प्रभु यीशु के अतुल्य नाम में आप सभी को आपके भाई राजेश का प्यार भरा जय मसीह की...

दोस्तों आत्मिक जागृति में देरी क्यों नामक कालजयी पुस्तक को लिखने वाले अंग्रेजी प्रचारक लियोनोर्ड रेवनहिल जी ने एक बार क्या खूब कहा था, *“यदि कलीसिया का सिर यीशु है तो अवश्य है कि हमें उसकी भुजा होने चाहिए ! जाग, हे परमेश्वर की कलीसिया, जाग...जैसे प्राचीनकाल में और बीते हुए पीढ़ियों में वैसे ही अब भी जाग!*”  कलीसिया के पास धरा की सबसे बड़ी सामर्थ है वो है प्रार्थना...कलीसिया ने जब जब अपनी उन भुजाओं की सामर्थ को समझा है और उसे प्रार्थना में सेनाओं के यहोवा के साम्हने उठाया है तब तब शत्रु का साम्राज्य जड़ से ढा दिया गया है....जब तक मूसा अपना हाथ (अपनी भुजाएं)  उठाए रहता था तब तक तो इस्राएल प्रबल होता था; परन्तु जब जब वह उसे नीचे करता तब तब अमालेक प्रबल होता था। (निर्गमन 17:11) हाँ वो लिव्व्यातान वो पुराना सांप जो तबाही मचाता है... दुआ में उठी हुई भुजाओं से ही बाँधा जा सकता है (अय्यूब 41:1; 42:10)

मेरे विचार से प्रार्थना एक ऐसे बारूद से भरे हुए मिशाइल के समान है जिसे शांत पड़े रहने दिया जाए तो कई वर्षों तक यूं ही निष्क्रिय बना रहता है...उसके साथ बच्चे खेलें तो भी कुछ नहीं होगा यहाँ तक की उसे बच्चे उठा कर दीवार में दे मारे तो भी कुछ नुकसान नहीं होगा...लेकिन उसकी पूरी क्षमता को देखना है तो उसे भारी तोप में पीछे से अग्नि का जबर्दस्त प्रहार देना होगा और तब केवल तब ही वो मिशाइल अपनी पूरी क्षमता को दिखाते हुए विस्फोट होगा और दुश्मनों के गढ़ के चीथड़े उड़ा देगा...

निसन्देह, धर्मी जन की प्रभावशाली प्रार्थना के प्रभाव से बहुत कुछ हो सकता है (याकूब 5:16) ...इतिहास गवाह है ...की सब कुछ हो सकता है ....ओह्ह  खुदा के एकलौते बेटे के लहू से खरीदी हुई कलीसिया जाग जाए...सेनाओं के यहोवा की भुजा जाग जाए...

No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

तोड़े को तुरंत इस्तेमाल करें ....

*तब जिस को पांच तोड़े मिले थे, उस ने तुरन्त जाकर उन से लेन देन किया, और पांच तोड़े और कमाए।*(मत्ती 25:16) प्रभु यीशु मसीह के अतुल्य ना...

Followers