Thursday, February 7, 2019

तुलना करना छोड़ें ...आप एक मास्टरपीस हो


क्योंकि हम उसके बनाए हुए हैं, और मसीह यीशु में उन भले कामों के लिये सृजे गए जिन्हें परमेश्वर ने पाहिले से हमारे करने के लिये तैयार किया। (इफिसियों 2:10) 


  • एक कौआ आसमान में अपने काले रंग के कारण बड़ा दुखी होकर उड़ रहा था। उसने नीचे नदी के किनारे एक सुंदर सफेद हंस को देखा..कौआ हंस के पास आकर कहने लगा....तुम तो दुनिया के सबसे खुश पक्षी होंगे क्योकिं तुम तो दुनिया के सबसे सुंदर पक्षी जो हो कितने सुंदर तुम्हारे पंख हैं...तुम पूरे के पूरे सफेद हो उजला रंग है। 

  • हंस ने उसकी ओर देखा और कहा, "नहीं भाई, मैं दुनिया का सबसे खुश पक्षी नहीं हूँ न ही मैं दुनिया का सबसे खूबसूरत  पक्षी हूँ, क्योंकि जब भी मैं तोते को देखता हूँ और उसके रंग और उसकी लाल चोंच को देखता हूँ तो मुझे जलन होती है। सच यह है कि दुनिया का सबसे खुबसूरत पक्षी मैं नहीं बल्कि तोता है। और सबसे खुश पक्षी तोता ही है।

  • कौए को यह बात ठीक लगी और वह उड़कर तोते के पास पहुंचा और उससे पूछने लगा तुम तो दुनिया के सबसे खूबसूरत पक्षी हो सबसे सुंदर पक्षी हो कैसा लगता है तुम्हें। तोते ने कौए की बड़ी उदास दृष्टि से देखा और कहा नहीं भाई मैं दुनिया का सबसे खूबसूरत पक्षी और खुश पक्षी नहीं हूँ...क्योकि जब भी मैं मोर को देखता हूँ उसके रंग बिरंगे पंख और सिर पर कलगी देख कर जलन होती है काश मुझे भी ऐसी सुन्दरता मिली होती..तो मैं भी बहुत खुश पक्षी होता...मोर ही सबसे सुंदर और खुश पक्षी है...

  • यह बात कौए को अच्छी लगी और वह मोर के पास पहुंचा और कहने लगा भाई मोर तुम तो दुनिया के सबसे खूबसूरत पक्षी हो तो तुम्ही दुनिया के सबसे खुश पक्षी होंगे न ??

  • मोर अपनी दर्द भरी निगाहों से कौए की ओर देखता है और कहता है...नहीं भाई मैं खूबसूरत तो हूँ परन्तु खुश पक्षी नहीं हूँ..क्योंकि इसी खूबसूरती के कारण लोग मुझे पकड़ लेते हैं और कैद कर लेते हैं...पिंजड़े में बंद कर देते हैं। मेरे इन सुंदर पंखों के कारण ही बहुत से लोग हमें मार भी डालते हैं...और हर समय मैं आसमान में उड़ने वाले कौए को देखकर यही सोचता हूँ कि काश मुझे ईश्वर ने कौआ बनाया होता...ताकि मैं आसमान में खुश होकर आजादी से बिना डरे उड़ तो पाता। 

  • यह सुनकर कौए को अपने जीवन का असली मकसद पता चला...जो नीवन भर दूसरों को देखकर जी रहा था की वो खुश होगा यह वो सुंदर है...उसी प्रकार हममें से भी बहुत लोग केवल यही सोचते रहते हैं कि वो ज्यादा खुश होगा वो कितना बढ़िया जीवन जी रहा है शायद वो खुश होगा... बुजुर्ग एक कहावत कहा करते थे बेटा दूसरों की थाली में रखा बरा ज्यादा बड़ा लगता है...

  • सच है नदी पार की घास ज्यादा हरी दिखती है...लेकिन जो कुछ हमारे पास है या हमारे अंदर है उसे हम देख ही नहीं पाते.. 

  • परमेश्वर ने हमें बहुत ही सुन्दर बनाया है और भले काम करने के लिए बनाया है...

  • इसलिए उठें और दूसरों को देखना बंद कर अपने गुणों को देखें और उन्हें स्तेमाल करना प्रारंभ करें...परमेश्वर ने जब अपने हाथों से हमें भले काम करने के लिए  बनाया है तो अवश्य है उस भले कामों को करने के लिए सशक्त भी किया है और हमारे अंदर वो तमाम गुणों को भी इन्बिल्ड किया है आइये इन्हें संचालित करें....तुलना करना छोड़ें ..क्योंकि आप एक मास्टरपीस हो

  • वो परमेश्वर उन गुणों को हमारे अंदर क्रियान्वित होते देखने के लिए इंतजार में है।  














No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

तोड़े को तुरंत इस्तेमाल करें ....

*तब जिस को पांच तोड़े मिले थे, उस ने तुरन्त जाकर उन से लेन देन किया, और पांच तोड़े और कमाए।*(मत्ती 25:16) प्रभु यीशु मसीह के अतुल्य ना...

Followers