Two Beautiful Short Stories (हिंदी)



Just Get out of the well 
रामू किसान का गधा गाँव के पास ही चरते चरते एक सूखे गड्ढे में गिर गया...बहुत देर तक रामू उसे ढूँढ़ता रहा... फिर किसी ने गधे की ढेंचू-ढेंचू की आवाज सुनकर बताया की तेरा गधा तो उस सूखे गड्ढे में गिर गया है।


रामू अपने परिवार के सदस्यों और मित्रों के साथ बहुत देर तक रस्सी डाल कर और उपाय लगाकर उसे निकालने की कोशिश करता रहा अंत में जब सारी मेहनत बेकार होने पर जब वह थक गया। तब उसके उसके एक मित्र ने कहा अरे गधा तो बूढ़ा भी हो गया है और यह गड्ढा भी भरना ही था...क्यों न इस गधे को यहीं दफना दिया जाए...गड्ढा भी भर जाएगा। 

यह बात सभी को अच्छी लगी आखिरकार जो लोग अभी तक गधे को निकालने में लगे हुए थे उन सभी ने मिलकर उस गधे के ऊपर मिट्टी डालना शुरू किया...गधा सब बातें सुन रहा था वह किसी भी रीति से हार मानने वालों में से नहीं था...
जैसे ही मिट्टी उसके उपर गिरती वह उसे झटककर उस मिट्टी पर खड़ा हो जाता...जितने बार मिट्टी उस पर गिरती उतने बार वह उसे जोर से झटकता...वह लगातार मिट्टी झटकता रहा और अंत में उछलकर गड्ढे से बाहर आ गया

शिक्षा:- जिन्दगी हमारे ऊपर अलग अलग प्रकार की मिट्टी डालती है...लेकिन गड्ढे से बाहर आने का एक ही मन्त्र है... मिट्टी को हर बार झटकते रहो। 

🙏🙏🙏

Use it or you will loose it 

 परमेश्वर के उस वरदान को जो मेरे हाथ रखने के द्वारा तुझे मिला है प्रज्वलित कर दे (2 तीमुथियुस 1:6)


रामप्रसाद के दो पुत्र थे। उसके मरने के बाद खेती को लेकर झगड़ा न हो इसलिए उसने दोनों को बराबर खेती दे दी और दो कुंए भी बनवा दिए...दोनों कुंए में लबालब मीठा पानी भरा रहता था। 

दोनों भाइयों में बहुत प्रेम था उन्होंने विचार किया जब एक ही कुंए से काम चल जाता है तो दुसरे कुंए को क्यों न ढक दिया जाए और जब जरूरत होगी तो दूसरा कुंआ भी खोल कर स्तेमाल कर लिया जाएगा। 

और ऐसा कहकर उन्होंने राजमिस्त्री को बुलवाकर एक कुंए को ऊपर से ढक्कन लगवा दिया। दस वर्ष तक उन्होंने एक ही कुंए से पानी स्तेमाल किया और उसमें मीठा पानी भर भर कर आता रहा। 

दस वर्षों के पश्चात जब पिता की मृत्यु हो गई तो उन्होंने दूसरे कुंए को खोला जो बंद था...वे सभी उस कुंए को देखकर आश्चर्य चकित रह गए...क्योंकि वह बंद कुंआ सूख चूका था उसमें कुछ भी पानी नहीं था। 

लेकिन जो कुंआ स्तेमाल हो रहा था उसमें आज भी मीठा पानी भर भर कर आ रहा था। 

शिक्षा :- परमेश्वर ने हमें जो तोड़े (टेलेंट) दिए हैं जो प्रतिभाएं दी हैं यदि हम उन्हें स्तेमाल करें तो वो बढ़ेंगे नहीं स्तेमाल करें तो समाप्त हो जाएंगे (लोप हो जाएंगे)  


इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 












यदि आपके पास हिंदी में कोई प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी या सरमन हैं जो आप सभी की आशीष के लिए हमारे साथ शेयर करना चाहते हैं, तो क्रप्या उसे अपनी फोटो के साथ हमें ईमेल करें हमारी Email ID  है rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!!

5 comments:

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

घमंड. परमेश्वर के साथ चलने की सबसे बड़ी बाधा

मित्रों प्रभु यीशु में आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, हम कुछ सप्ताह से सीख रहे हैं कि कैसे हम परमेश्वर के साथ-साथ चल सकते हैं...पवित्रश...

Followers