Three Amazing Stories About Sin



लोमड़ी को केंकड़े पसंद है जब जंगल के पास नदी के किनारे लोमड़ी केंकड़े पकड़ती है तो केंकड़े तुरंत अपने बिल में पत्थर के नीचे घुस जाते हैं...


बहुत कोशिश करने पर भी बिल से नहीं निकलते तब लोमड़ी एक काम करती है वह अपनी पूंछ को पानी में लहराते हुए केंकड़े के बिल के सामने लेकर आती है...थोड़ी देर तक जब पूंछ के सुनहरे बाल पानी में लहराते हैं...
  
  तो केंकड़े को लगता है कुछ खाने की चीज है या कीड़ें हैं इसलिए वह धीरे से अपने बिल से नकलकर उस बालों की और लपककर पकड़ लेता है जैसे ही वह बालों को अपने डंक से पकड़ता है उसी समय लोमड़ी अपनी पूंच को उपर खींच लेती है, और केंकड़ा उसका भोजन बन जाता है....

Moral :- हर अवसर को लपक कर न पकड़ें...रुकें पहचाने कहीं यह शैतान की ओर से तो नहीं हैं??...जानकारी लें, प्रार्थना करें...और तब आगे बढ़ें।


रेड इंडियन का बगुले पकड़ने का तरीका बड़ा ही रोचक है...वे जानते हैं कि यदि पानी में बैठे बगुलों के पास जाएंगे तो वे तुरंत उड़ जाएंगे। इसलिए वे एक तरीका अपनाते हैं...

वे पहले एक या दो कद्दू में आँख मुह बनाकर उसे पानी में बहा देते है जब वह पानी में बहते बहते उन बगुलों के पास से निकलता है तो पहले तो बगुले उसे देखते ही वहां से उड़ जाते हैं...

जैसे ही वह कद्दू बह जाता है सारे बगुले फिर वापस आ जाते हैं....

कुछ समय रुक कर वे लोग फिर कुछ और कद्दू बहाते हैं परन्तु इस बार कुछ बगुले उड़ते हैं कुछ थोड़ा सा हट जाते है...

कुछ समय के बाद रेड इन्डियन फिर से कद्दू बहाते हैं इस बार सभी बगुले पानी में ही रहते हैं कोई भी नहीं हटता सभी बगुले समझ जाते हैं की यह कद्दू अपने रास्ते आयेगा और चला जाएगा...

परन्तु इस बार रेड इन्डियन इन कद्दू में अपने सिर छुपाए आते हैं और धीरे धीरे सारे बगुलों को पकड़ लेते हैं....

Moral  :-  बुराई से और पाप की अभिलाषाओं से हमेशा भागते रहने में ही भलाई है ...



बर्फीले भालू जो खून के प्यासे होते हैं जिन्हें किसी भी जानवर या मनुष्य के खून की गंध दूर से ही आ जाती है। उनसे बचना बहुत मुश्किल होता है। बर्फ में मनुष्य उन भालुओं से भी तेज भाग नहीं सकते...

इसलिए बर्फ में रहने वाले लोग उनसे बचने के लिए एक तरीका अपनाते हैं...

वे तेज धार के चाक़ू में धार की तरफ बकरे या किसी छोटे जानवर का खून लगा देते हैं और उस पर लगातार कई परत खून की लगाकर सुखा लेते हैं और उसे उल्टा चाक़ू अर्थात खून लगी हुई धार को ऊपर की ओर रखकर और पकड़ने का हत्था जमीन पर गाड़ देते हैं...

जब उस स्थान के आस पास भालू आता है तो वह उस खून की गंध पाकर उसे जल्दी जल्दी चाटने लगता है और चाटते चाटते उसकी कब उसकी खुद की जुबान कट जाती है भालू को पता ही नहीं चलता...और इस रीति से भालू अपने ही गर्म खून को चाटने लगता है और वहीं मर कर ढेर हो जाता है।

Moral : पाप भी ऐसा ही है यदि वह प्रारंभ में मजा दे रहा है तो अंत में मजदूरी मौत ही देगा।  




इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 

Seven Obedience of Christmas
  The Secret of Double Blessing 

Life changing story आशा अभी बाकी है 

भेंट के विषय पर तीन लघु कहानियाँ 



यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!


No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

मित्रों कई बार हमारे मनो में ख्याल आता है, कि हमें बाइबल क्यों पढना चाहिए?  इसके लिए बाइबल से ही मैं आपको जवाब देना चाहती हूँ मैं ...

Followers