Motivational Short Story टूटे दिलों के पुल



 सब बातें  परमेश्वर की ओर से हैं, जिस ने मसीह के द्वारा अपने साथ हमारा मेल-मिलाप कर लिया, और मेल-मिलाप की सेवा सौंप दी है
(2कुरुन्थियों 5:18)

किसी गाँव में दो भाई रहा करते थे। उनका घर अगल-बगल में ही था। पिता ने मरते समय उन्हें बराबर बराबर खेती दी थी जिसमें कुएं थे और दोनों के अपने अपने घर दिए थे। 
कई वर्षों तक एक साथ खेती बाड़ी करने के बाद एक छोटी सी गलतफहमी के कारण दोनों में झगड़ा हो गया। और वे एक दूसरे से बात नहीं करते अपने-अपने खेती में काम करते वे एक दूसरे से इतना ज्यादा नफरत करने लगे कि उन्होंने अपने खेतों के बीच में इतना बड़ा घहरा गढ्ढा खुदवा लिया...ताकि वहां से कोई यहाँ न आ सके और यहाँ से वहाँ न जा सके

दोनों परिवारों में बोल-चाल बंद थी...मिलना तो दूर एक दूसरे को देखना भी नहीं चाहते थे। 

   एक दिन बड़े भाई को शहर में कुछ काम था तो वह सुबह-सुबह शहर जाने को तैयार हो रहा था, तभी किसी ने उसका दरवाजा खटखटाया। उसने देखा की एक बढ़ई है, जो उससे काम मांग रहा है बड़े भाई ने कहा वैसे तो मेरे पास तुम्हारे लिए कोई काम नहीं हैं, परन्तु फिर भी तुम एक काम करो मेरे घर के पीछे बहुत सी लकड़ियाँ बेकार पड़ी हुई हैं, यदि कुछ बना सकते हो तो एक लकड़ी की दीवार बना दो जिससे मेरे भाई का घर भी न दिखे और मैं सुबह उठकर अपने भाई का मुंह भी नहीं देखना चाहता। 
  
   इतना कह कर और बढ़ई को आवश्यक सामान मुहैया कराकर बड़ा भाई पर शहर चला गया...

 तीसरे दिन जब बड़ा भाई शहर के काम से वापस लौटा तो देख कर दंग हो रह गया!!!

बढ़ई ने दीवार बनाने की बजाय उस खाई के ऊपर उन लकड़ियों से एक पुल बना दिया था। और पुल के दूसरी ओर उसका छोटा भाई आँखों में आंसू लिए ओर अपने दोनों हाथों को फैलाए बड़े भाई की ओर चला आ रहा है...

छोटे भाई ने कहा भैया मेरे इतने गाली गलौच के बावजूद भी आपने मुझे माफ कर दिया और एक पुल बनवा दिया...भैया मुझे माफ कर दो...और ऐसा कह-कहकर 
वह फूट-फूट कर बड़े भाई के सीने से लगकर रोने लगा...

यह देखकर बड़े भाई का भी दिल पिघल गया और वह भी अपने छोटे भाई से माफी मांगने लगा...

इन दोनों को गाँव के सभी खड़े लोग खुश होकर देख रहे थे। तब बढ़ई अपना सामान बाँध कर चलने की तैयारी करने लगा...

छोटे भाई ने कहा मुझे भी तुमसे कुछ काम करवाना है बढ़ई ने कहा मुझे जाना है बहुत जरूरी काम है...

बड़े भाई ने कहा कौन सा जरूरी काम??

बढ़ई ने कहा, "और भी बहुत से पुल बनाने हैं


इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 

The Secret of Double Blessing 


सफलता का सबसे बड़ा शत्रु (बहानेबाजी)


Three Stories about Giving to God 


Three Amazing stories about sin 



 यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!




No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

घमंड. परमेश्वर के साथ चलने की सबसे बड़ी बाधा

मित्रों प्रभु यीशु में आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, हम कुछ सप्ताह से सीख रहे हैं कि कैसे हम परमेश्वर के साथ-साथ चल सकते हैं...पवित्रश...

Followers