क्लेश अच्छे हैं (Short Hindi Story)




 (1 पतरस 5:10) 

अब परमेश्वर जो सारे अनुग्रह का दाता है, जिस ने तुम्हें मसीह में अपनी अनंत महिमा के लिए बुलाया, तुम्हारे थोड़ी देर तक दुःख उठाने के बाद आप ही तुम्हें सिद्ध और स्थिर और बलवंत करेगा।




  • बंगाली लोग मछलियाँ बहुत पसंद करते हैं। और ये जितनी ताज़ी होतीं हैं, लोग उसे उतना ही पसंद करते हैं। लेकिन समुद्र के तटों के आस-पास इतनी मछलियाँ नहीं होती की उनसे लोगों की डिमांड पूरी की जा सकी। जिसके कारण मछुआरों को दूर समुद्र में जाकर मछलियाँ पकड़नी पड़ती है।

  • जब इस तरह से मछलियाँ पकड़ने की शुरुआत हुई तो मछुआरों के सामने एक गंभीर समस्या सामने आई। वे जितनी दूर मछली पकड़ने जाते उन्हें  लौटने में उतना ही अधिक समय लगता और मछलियाँ बाजार तक पहुँचते-पहुँचते बासी हो जाती, और फिर कोई उन्हें खरीदना नहीं चाहता।

  • इस समस्या से निपटने के लिए मछुआरों ने अपनी पानी के जहाज़ों  पर फ्रीजर लगवा लिए। वे मछलियाँ पकड़ते और उन्हें फ्रीजर में रख देते। लेकिन लोगों को ताज़ी मछलियों में और फ्रीजर में रखी हुई मछली में अंतर मालूम हो जाता और फिर बिक्री में कमी आने लगती। 

  • समस्या ज्यों की त्यों बनी  हुई थी। तब किसी बुद्धिमान व्यक्ति ने उन्हें एक उपाय सुझाया...उसने बताया की मछलियों को एक पानी के टेंक में डाल दो और उस बड़े टेंक में एक छोटी शार्क मछली को भी डाल दो...

  • सभी ने कहा अरे वो शार्क तो सभी मछलियों को खा जाएगी...बुद्धिमान व्यक्ति ने कहा धीरज रखो...ऐसा कर के तो देखो...

  • जब ऐसा किया उस टैंक में बाकी सभी छोटी मछलियों में हमेशा भगदड़ मची रहती...मछलियों के बीच छोटी शार्क के होने के कारण लगातार हलचल मची रहती...जिसके कारण सभी मछलियाँ फ्रेस (ताजा) और जाग्रत रहती...जिसके कारण उनका स्वाद भी नहीं बदलता और इस रीति से उन मछुआरों की समस्या का समाधान भी मिल गया।  

  •  हाँ मित्रों बहुत बार हमारी जिन्दगी में समस्याएं, क्लेश, सताव...हमें नाश करने के लिए नहीं बल्कि हमें जगाने के लिए आते हैं...जिसके कारण हमारा जीवन प्रभु परमेश्वर के और भी करीब आ जाता है...ये समस्याएं कुछ शार्क मछली की तरह ही काम करती है..और हमें भगाती है...प्रार्थना और प्रभु के चरणों में आने के लिए विवश करती है....

  • तेरी लाठी और तेरे सोटे से मुझे बल मिलता है...


(रोमियों 5:3-5) 
केवल यही नहीं, वरन हम क्लेशों में भी घमंड करे, यही जानकार कि क्लेश से धीरज और धीरज से खरा निकलना, और खरे निकलने से आशा उत्पन्न होती है।




Read Biblical Stories 
             👇
         
➤ नूह की कहानी

इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 

No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

घमंड. परमेश्वर के साथ चलने की सबसे बड़ी बाधा

मित्रों प्रभु यीशु में आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, हम कुछ सप्ताह से सीख रहे हैं कि कैसे हम परमेश्वर के साथ-साथ चल सकते हैं...पवित्रश...

Followers