Monday, December 31, 2018

Life Changing Story आशा अभी बाकी है


आशा अभी बाकी है

       शतरंज का एक खिलाड़ी एक संग्राहलय में पेंटिंग को बड़े गौर से देख रहा था यह पेंटिंग एक इनाम पायी हुई पेंटिग थी...जिसमें एक शतरंज (चेस) चल रहा है और एक ओर शैतान खेल रहा है बड़ी डरावनी मुस्कुराहट के साथ और एक तरफ एक जवान लड़का खेल रहा है बड़ा ही हताश-निराश, अपनी ही कुर्सी में धराशायी होकर बैठा है और अपने हाथ से अपने बालों को खींच रहा है...अब उसे कुछ आशा नहीं....

     दोनों के बीच में शतरंज का पिसाद बिछी हुई है और...पेंटिंग के ऊपर लिखा है चेक एंड मेट
    
     शैतान ने एक चाल चली है और लग रहा है जवान की हार निश्चित है....ये व्यक्ति कुछ देर तक बड़ी ही ध्यान से सभी चालों को देखता है और कुछ होता है और वह जोर जोर से चिल्लाने लगता है अरे अरे हे जवान अभी आशा बाकी है अभी आशा बाकी है क्यों उदास होता है मैंने देखा है अभी एक और चाल बाकी है शैतान तेरा कुछ नहीं कर सकता देख....अरे कोई इसे बताए आशा अभी बाकी है....

      बाइबल में हम देखते हैं जब परमेश्वर ने सुंदर सृष्टि को और आदम और हव्वा को बनाया। परन्तु शैतान ने एक चाल चली और आदम-हव्वा को आज्ञा उलंघन के पाप में डाल दिया।
      फिर परमेश्वर ने शाप दिया कि हे स्त्री तू दर्द से सन्तान जनेगी और तेरी सन्तान इस सांप को कुचलेगा और सांप तू उसके एडी को डसेगा।

      शैतान ने सोचा कि मैं इस स्त्री के सन्तान को ही मार डालूँगा और उसने हव्वा के सन्तान अर्थात हाबिल को उसके ही भाई केन से मरवा डाला क्योंकि परमेश्वर ने हाबिल की अराधना भेंट ग्रहण की थी।

     परमेश्वर ने एक पुरुष को चुना जिसका नाम अब्राहम था परमेश्वर ने कहा मैं तुझे आशीष दूंगा और तेरे द्वारा संसार के सारे कुल आशीष पाएंगे...

      परन्तु शैतान ने यह सोचकर की शायद इसका पुत्र ही मेरे सिर को कुचलेगा अब्राहम की पत्नी को बाँझ कर दिया...सोचा न रहेगा बांस न बजेगी बाँसुरी..

      परन्तु परमेश्वर ने अब्राहम की पत्नी सारा को सौ वर्ष में एक पुत्र दिया जिसका नाम इसहाक रखा गया...


     शैतान ने फिर चाल चली और इसहाक की पत्नी रिबका को बाँझ कर दिया

     परमेश्वर ने रिबका के द्वारा एक नहीं बल्कि दो सन्तान को इस धरती पर भेजा...

    शैतान दंग रह गया...फिर उसने एक और चाल चली उसने रिबका के बेटे याकूब को घर से निकलवा दिया और दर दर भटकने को मजबूर कर दिया...

     परमेश्वर ने उसे दर्शन दिया और 12 बच्चों के रूप में आशीष दिया..
शैतान ने फिर चाल चली और याकूब के प्रिय बेटे को मार डालने के लिए दुसरे देश में बिकवा दिया

       परमेश्वर ने उसी युसुफ को मिश्र का प्रधानमंत्री बना दिया....

     शैतान परेशान था की कौन है वो जो मेरे सिर कुचलने के लिए इस धरती पर आएगा...

   परमेश्वर ने अय्यूब नामक एक व्यक्ति को जो खरा था परमेश्वर का भय मानता था बुराई से अलग रहता था उसे संसार भर में सबसे ज्यादा आशीष दिया...
   
    परन्तु शैतान ने एक ही दिन में उसके पूरे परिवार को सारे धन संपत्ति के साथ खाक में मिला दिया परन्तु परमेश्वर ने उसे फिर से दुगना आशीष देकर मालामाल कर दिया।
अब कुछ समय लगभग 400 वर्षों तक शांत था...शैतान ने सोचा लगता है परमेश्वर सब कुछ भूल गया...

   
      परमेश्वर ने यूहन्ना एक व्यक्ति को भेजा जो शहद और टिड्डियाँ खाता था और जंगल में मन फिराव का प्रचार करता था...जब फरीसियों ने उसके पास बप्तिस्मा लेने आये तो यूहन्ना कहने लगा, ‘हे सांप के बच्चों’ तुम्हें किसने चिता दिया...शैतान ने उनके द्वारा यह कहलवाया क्या तू वही है जिसका हम इंतजार कर रहे हैं। परन्तु यूहन्ना ने कहा नहीं...मैं तो उसके पैरों को जूती उठाने के योग्य नहीं हूँ...मैं तो पानी से बप्तिस्मा देता हूँ वो तो तुम्हें आग से बप्तिस्मा देगा।

     शैतान ने यूहन्ना का सिर राजा के द्वारा कटवा कर थाली में रखवा दिया।

      परमेश्वर ने एक कुंआरी के द्वारा इस संसार में अपने पुत्र यीशु को भेजा...शैतान क्न्फ्युस यीशु बढ़ता गया और अपने ज्ञान से सभी को चकित कर दिया उसने मुर्दों को जिलाया बीमारों को चंगा किया, भूखों को खिलाया...

     परमेश्वर ने कहा ये मेरा प्रिय पुत्र है इससे मैं अति प्रसन्न हूँ....
   
     शैतान ने उसी देश की सेना के द्वारा यीशु को सूली पर चढवा दिया...और मारे ख़ुशी के ठहाका लगा कर कहने लगा चेक एंड मेट

    परन्तु परमेश्वर ने आखरी चाल चली और तीसरे दिन यीशु को मुर्दों में से जिला दिया....और सारे संसार को एक संदेश दिया की “आशा अभी भी बाकी है”


यीशु ने शैतान को हराकर स्वर्ग की और अधोलोक की कुंजियाँ र जो उसने आदम से ले ली थी उससे छीनकर सारे मानव जाति से कहा देखो मुझे धरती और आकाश का सारा अधिकार दिया गया है इसलिए तुम जाओ और सारे जगत में यह सुसमाचार सुनाओ की उनके लिए आशा अभी बाकि है और देखो मैं जगत के अंत तक सदा तुम्हारे साथ हूँ ....

 आज हम सभी के लिए एक महान आशा है की यदि हम उसपर विश्वास करें तो हमारे लिए भी अनंत कालीन जीवन की एक आशा बाकी है....



इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 





यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

2 comments:

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

खुदा का भवन उजाड़ पड़ा है...

क्या तुम्हारे लिये अपने छत वाले घरों में रहने का समय है, जब कि यह भवन उजाड़ पड़ा है? (हाग्गै 1:4) प्रभु के अतुल्य नाम में आप सभी प्र...

Followers