दो तोते




दो तोते

 धोखा न खाना, बुरी संगति अच्छे चरित्र को बिगाड़ देती है (1कुरुन्थियों15:33)


      दो तोते सगे भाई थे अभी अभी उड़ना सीखे थे, और उन्होंने जंगल से निकलकर शहर की ओर उड़ चले अभी ज्यादा दूर नहीं गए थे कि उन्हें समझ में आ गया कि वे और ज्यादा नहीं उड़ सकते...थककर वे गिरने लगे और दोनों एक दुसरे से बिछड़ गये। एक डाकुओं के अड्डे में गिरा। दूसरा एक कलीसिया में गिरा जहाँ लोग भजन करते थे, उपदेश सुनते थे और वहां पास्टर का परिवार रहता था। कुछ दिन पश्चात वहां एक मंत्री भ्रमण के लिए निकले...गर्मी में थककर वे विश्राम करने की मनसा से एक जगह बैठ गए तभी उन्होंने एक आवाज सुनी, ‘अरे कोई है.. इस आदमी के पास बहुत धन है.. गला दबा के इसे लूट लो...चाक़ू निकालो तलवार लाओ..पकड़ो इसे...सबकुछ लूट लो ।
       यह सुनकर मंत्री घबरा गए और इधर उधर देखने लगे। तो क्या देखा यह तो एक तोता है जो पिंजड़े में है और ऐसा चिल्ला रहा है। मंत्री तुरंत वहां से निकल पड़े। और अपनी प्यास बुझाने के लिए उन्होंने दूर एक अच्छी जगह देखी और पास जाकर पूछने लगे यहाँ कोई है? 
        अंदर से आवाज आई आइये महोदय...पास्टर जी बाहर गए हैं...घर में पानी है और टेबिल में फल है आप लीजिए आराम कीजिए पास्टर जी आते ही होंगे। मंत्री जी को विश्वास ही नहीं हो रहा था कि यह एक तोता बोल रहा है। उन्होंने कहा मैंने अभी-अभी एक बिलकुल तुम्हारे जैसा ही तोता देखा जो मुझे लूटने मारने की बात कह रहा था और एक तुम हो प्रेम पूर्वक मेरा आदर कर रहे...सम्मान से मुझे बुला रहे हो। तोते ने कहा मंत्री जी वो मेरा ही भाई है चोरों और डाकुओं की संगती में वह उनकी ही बोली बोल रहा है और मैंने इस सत्संग में रहकर कलीसिया का प्रेम और सदाचार सीखा है। यह सब कुछ संगति का असर है।

इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 





यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

मित्रों कई बार हमारे मनो में ख्याल आता है, कि हमें बाइबल क्यों पढना चाहिए?  इसके लिए बाइबल से ही मैं आपको जवाब देना चाहती हूँ मैं ...

Followers