सब कुछ तुम्हारे हाथ में है





सब कुछ तुम्हारे हाथ में है


मैं आज आकाश और पृथ्वी दोनों को तुम्हारे सामने इस बात की साक्षी बनाता हूँ, कि मैं ने जीवन और मरण आशीष और शाप को तुम्हारे आगे रखा है, इसलिए टू जीवन ही को अपना ले कि तू और तेरा वंश दोनों जीवित रहे 
(व्यवस्थाविवरण 30:19)

एक गाँव में दो शरारती लड़के थे। उसी गाँव में एक परमेश्वर का दास भी रहा करता था जो लोगों को ज्ञान के उपदेश भी देता था। एक दिन इन दो लडकों को शरारत सूझी और उन्होंने उस पास्टर परेशान करना चाहा। उन्होंने सोचा यह पास्टर हमेशा सच कहता है और लोगों के विषय में भी सच सच बता देता है, क्यों न हम कुछ ऐसा करने जिससे उनकी बाते झूठी हो जाएं। उन्होंने एक उपाय सोचा, कि हम एक जीवित चिड़िया पकड़ेंगे। और उसे पीछे छिपा कर पास्टर के पास ले जाकर पूछेंगे कि बताओ यह जो हमारे हाँथ में है वो जीवित चीज है या म्रृत (सजीव है या निर्जीव) यदि वो कहेंगे कि जीवित है तो हम उस चिड़िया को मार देंगे और कहेंगे आप गलत हो और यदि वो कहेंगे मरी हुई चीज है तो हम उस चिड़िया को जीवित उड़ा देंगे। दोनों ही तरह से जीत हमारी ही होगी। दोनों शरारती लड़कों ने दूसरे दिन वैसा ही किया। वे पास्टर के पास एक चिड़िया पकड़कर पहुंचे और हाथ में पीछे छिपाते हुए बोले, पास्टर जी आप हमें बताएं जो हमारे हाथ में है वो जीवित है या मरा हुआ। पास्टर विद्वान थे उन्होंने बड़ी ही शालीनता से कहा, ‘बच्चों ‘ये आपके हाथ में है’। उसे जीवित रखना या मार देना तुम्हारे हाथ में है। वो दोनों बहुत ही डर गए...पास्टर ने कहा, ‘उसी तरह तुम्हारा जीवन भी सम्हालना या बिगाड़ना तुम्हारे हाथ में है...
     चुनाव हमेशा हमारे हाथ में है कि हम अपने लिए मौत चुनते है या जीवन...
सब कुछ हमारे हाथ में है। 
प्रभु आपको आशीष दे...




इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 




यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

मित्रों कई बार हमारे मनो में ख्याल आता है, कि हमें बाइबल क्यों पढना चाहिए?  इसके लिए बाइबल से ही मैं आपको जवाब देना चाहती हूँ मैं ...

Followers