अवसर की प्रतिमा


अवसर की प्रतिमा


अवसर को बहुमुल्य समझकर बाहरवालों के साथ बुध्दिमानी से बर्ताव करो। (कुलुस्सियों 4:5)

       एक राजा अपनी प्रजा को अवसर का महत्व बताना चाहता था। वो कहा करता था कि बुद्धिमान वही है जो अवसर को पहचाने सही समय में सही काम करे। अवसर की महत्ता को समझाने के लिए उसने अपने नगर के सभी मूर्तिकार लोगों को बुलवाकर उनसे कहा जो भी अवसर की मूर्ति बनाएगा उसे बड़ा इनाम दिया जाएगा। सभी सुनकर सोच में पड़ गए। अवसर कोई व्यक्ति है क्या या वस्तु जिसकी मूर्ति बनाई जाए। लगभग सभी ने हार मान ली। 
      
परन्तु एक मूर्तिकार ने कुछ समय लिया और तीन महीने में उसने एक मूर्ति बना कर उस पर कपड़ा ढक कर राजा के सामने लाई गयी। राजा का दरबार भरा हुआ था, सभी मूर्ति से कपड़े के हटने का इंतजार कर रहे थे। समय आया जब राजा ने रिबिन काट कर उसका पर्दा हटाया...यह क्या देखकर सभी आश्चर्य चकित थे कि यह कैसी मूर्ति है जिसका चेहरा लंबे लंबे बालो से ढका हुआ है और पीछे से देखने पर वो मूर्ति टकली है कोई भी बाल पीछे नहीं है। राजा ने गुस्से में उस मूर्तिकार से पूछा यह क्या मजाक है...इसका क्या मतलब है...मूर्तिकार ने बड़े धैर्य से राजा को तथा पूरी प्रजा को समझाना शुरू किया। राजा यह अवसर  है, अवसर जब भी आता है, लोग इसे पहचान नहीं पाते। इसीलिए इसका चेहरा बालों से ढंका है। राजा ने पूछा फिर इसके पीछे से तो सिर में कोई बाल नहीं हैं...इसका क्या अर्थ है? राजा जब भी अवसर चला जाता है तब लोग उसे पहचानते तो लेते हैं...परन्तु उसे पकड़ नहीं पाते...हाथ मलते रह जाते हैं...इसी कारण इस मूर्ति के सिर के पीछे कोई बाल नहीं है। राजा ने मूर्तिकार की समझबूझ के कारण उसे खूब इनाम देकर सम्मानित किया।






यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

2 comments:

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

घमंड. परमेश्वर के साथ चलने की सबसे बड़ी बाधा

मित्रों प्रभु यीशु में आप सभी को मेरा प्यार भरा नमस्कार, हम कुछ सप्ताह से सीख रहे हैं कि कैसे हम परमेश्वर के साथ-साथ चल सकते हैं...पवित्रश...

Followers