टेंसन दूर करने के 6 बिब्लिकल तरीके



टेंसन दूर करने के 6 बिब्लिकल तरीके 



      जाने अनजाने कभी न कभी हम सभी को किसी न किसी बात पर टेंसन हो ही जाती है। प्रभु के लोगों को जानना चाहिए तनाव टेंसन निराशा को लेकर आता है जो शैतान का भयानक हथियार है, जिससे उसने न जाने कितने प्रभु के लोगों को निराशा में डालकर (बैक्स्लाइड) प्रभु से दूर कर दिया है। बहुत बार हम बिना किसी बात के चिंतित हो जाते। टेंसन से शारीरिक रोग भी पनपते हैं जो हमारे जीवन में घातक बीमारी के रूप में सामने आते है। तो आइए आज पवित्रशास्त्र से सीखते हैं कि यदि हम टेंसन में हैं तो कैसे उसमें से बाहर आएं या क्या ऐसा करें कि हम हमेशा टेंसन से दूर रह सकें।

    1. परमेश्वर के पास जाएं (प्रार्थना करें ) 

जब मेरे मन में बहुत सी चिंताएँ होती हैं तब हे यहोवा , तेरी दी हुई शान्ति से मुझ को सुख मिलता है। (भजन 94 :19) पवित्रशास्त्र में अनेक ऐसे लोग हुए हैं जब उनके जीवन में चिन्ता ने दुःख ने या डर ने घेर लिया तब उन्होंने प्रभु के भवन में आकर या परमेश्वर से प्रार्थना करके प्रभु से दुःख का निवारण पाया है। जैसे शमुएल की माता हन्ना, राजा दाउद कहने लगा मैं खुश हुआ जब उन्होंने कहा आओ हम यहोवा के घर को चलें।  दाउद कहता है मैं अपनी आखें पर्वतों की ओर लगाऊंगा मेरी सहायता कहाँ से मिलेगी, मेरी सहायता यहोवा की ओर से मिलेगी जिसने जमीन और आसमान को बनाया है। हमारे लिए पृथ्वी के सारे दरवाजे बंद भी हो जाए एक दरवाजा हमेशा खुला रहता है वो परमेश्वर कभी सोता नहीं कभी ऊंगता भी नहीं"किसी भी बात की चिंता न करें परन्तु हरेक बात में तुम्हारे निवेदन, प्रार्थना और विनती के द्वारा धन्यवाद के साथ परमेश्वर के सम्मुख उपस्थित किए जाएं"(फिलिप्पियों 4:6) 

 2. अपनी समस्याओं पर नहीं परमेश्वर पर फोकस करना है 

यदि हम अपनी समस्याओं को ही लगातार देखते रहें उसी के विषय में सोचते और बातें करते रहें तो हम हल कभी भी नहीं निकाल पाएंगे, वरन समस्याएं बढती नजर आएंगी। इसके बदले हमें परमेश्वर की ओर निहारना होगा वो ही आशा का दाता है। युहन्ना 8:12 यीशु ने कहा "जगत की ज्योति मैं हूँ जो मेरे पीछे हो लेगा वह अंधकार में न चलेगा परन्तु जीवन की ज्योति पाएगा।" ) दुनिया की चीजों के पीछे नहीं परन्तु परमेश्वर और उसके राज्य की खोज में रहें तो सारी चीजें हमारे पीछे हो लेंगी 

3. सदा प्रभु में आनन्दित रहें 

(फिलिप्पियों 4:4 प्रभु में सदा आनन्दित रहो: मैं फिर कहता हूँ आनन्दित रहो ) यदि बिना किसी कारण के दुखी हो सकते हैं तो हम बिना किसी कारण एवं किसी भी परिस्थिति में आनन्दित भी रह सकते हैं। संत पौलुस यह पत्री लिखते हुए जेल में हैं। भयानक बंदीगृह में रहकर वे लोगो को उत्साहित करते हुए लिखते हैं कि प्रभु में सदा आनन्दित रहो। परमेश्वर प्रति दिन हमें 24 घंटे उपहार के रूप में देते हैं यह हमारे ऊपर है कि इसे रोकर बर्बाद कर दें या आनन्दित रह कर प्रभु के लिए और अपने लिए भले काम करके आदर्श बन जाएं। 

4. धन्यवादी रहें 

एक धन्यवादी ह्रदय आनन्दित हृदय होता है। एक ही समय में हम धन्यवादी और कडवाहट से भरे हुए नहीं हो सकते। या तो हम कुढ़कूड़ाएंगे या धन्यवादी रहेंगे। हम सबने सब कुछ दूसरों से पाया है और पृथ्वी और जो कुछ इसमें है वो परमेश्वर का है हमारा जीवन भी। तो हमें धन्यवादी होना चाहिए। यदि हम ऐसा करेंगे तो पवित्रशास्त्र में लिखा है तब परमेश्वर की शांति जो सारी समझ से परे है हमारे ह्रदय और विचारो को मसीह में सुरक्षित रखेगी (फिलिप्पियों 4:7)

5. परमेश्वर के वचन को मनन करें 

प्रभु यीशु एक बार जब मरियम और मार्था के घर में आए तो मार्था तो बहुत चिंता करने लगी कि क्या बनाऊ प्रभु को खुश करने के लिए लेकिन उसकी बहन मरियम प्रभु के चरणों पर बैठ कर उनके अनमोल वचनों को सुनने लगी। यीशु ने उसे सराहा और मार्था से कहा तू बहुत सी बातों की चिंता करती हैं टेंसन लेती रहती है परन्तु उत्तम बात यह कि वचन का मनन किया जाए जो तुम्हारी बहन मरियम कर रही है।(धन्य है वह जो परमेश्वर की व्यवस्था से प्रसन्न रहता और उस पर रात दिन ध्यान करता रहता है भजन 1:2)

6. प्रभु के लोगों के साथ संगति करें 

एक व्यक्ति वही होता है जैसे उसकी संगति होती है, बुरे लोग बुरे लोगों की संगति करते हैं भले लोग भले लोगों की संगति करते हैं । एक आग से भरी अंगीठी से यदि एक लाल कोयला निकाल कर बाहर कर दिया जाए जल्द ही वो ठंडा होकर काला ठंडा कोयले में तब्दील हो जाएगा। प्रभु ने भी कहा अंत के दिनों में संगति करना न छोड़ना। यदि दस आनन्दित लोगों के बीच एक दुखी मनुष्य आ जाए तो उनके साथ वो भी आनन्दित हो सकता है। (नीतिवचन 13:20 बुद्धिमानों की संगति कर तब तू भी बुद्धिमान हो जाएगा, परन्तु मूर्खो का साथी नष्ट हो जाएगा) 


इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 



यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

4 comments:

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

मित्रों कई बार हमारे मनो में ख्याल आता है, कि हमें बाइबल क्यों पढना चाहिए?  इसके लिए बाइबल से ही मैं आपको जवाब देना चाहती हूँ मैं ...

Followers