सफलता के लिए परमेश्वर का तरीका (भाग # 2) लगातार बिना शर्म प्रार्थना


लगातार बिना शर्म प्रार्थना 
Persistence Prayer is the Secret of Success

सुनने में बड़ा अजीब लगता है, परन्तु यह सत्य है...हमारा स्वर्गीय पिता परमेश्वर चाहता है, कि हम उसके बच्चे जब उसके पास जाएं तो किसी भी शर्म और फोर्मेलटी को छोड़ कर उससे एक सन्तान के भांति हक़ से मांगे। प्रभु यीशु ने  (लूका 18:1-8) में प्रार्थना के ऊपर एक दृष्टांत बताया....

     किसी गाँव में एक बुजुर्ग दुखियारी विधवा स्त्री रहती थी, दुखियारी इसलिए क्योंकि वह अपने पति को जवानी में ही खो चुकी थी और उसके कोई सन्तान भी न थी जो उसके बुढापे की लाठी बनता। बस इसी बात का फायदा उठाकर गाँव के कुछ असमाजिक तत्वों ने उसके बची कुची संपति पर जिसके द्वारा उसका जीवन यापन हो रहा था उससे छीन लिया। इस बुजुर्ग विधवा ने सभी अधिकारी लोगों के पास जाकर गुहार लगाई परन्तु कोई भी इस झमेले में नहीं पड़ना चाहता था। इसलिए कोई भी सहायता के लिए सामने नहीं आया। सच है अमीर के बहुत मित्र होते हैं परन्तु गरीब का साया भी साथ नहीं देता।  

    इस बुजुर्ग विधवा ने हिम्मत नहीं हारी और लगातार गाँव के दरोगा के पास और पंचायत के सरपंच के पास जाती रही।  फिर किसी ने उसे बताया कि इस नगर का न्यायी ही तेरे लिए कुछ कर सकता है। परन्तु सब जानते थे कि वह न्यायी बड़ा ही दुष्ट वह सभी भ्रष्टाचारियों में सबसे बड़ा है वह न तो किसी मनुष्य से डरता है और न ही परमेश्वर का भय मानता है... वो बिना पैसे लिए कुछ काम नहीं करता...
यह बात सुनते ही बुजुर्ग विधवा को तो जैसे आशा की किरन नजर आने लगी...वह उसी समय सारा काम छोड़कर उस न्यायी के पास भागी....जैसे ही वह न्यायी के न्यायालय पहुंची उसे किसी ने मिलने ही नहीं दिया सबने समझाया देखो माता जी कोई फायदा नहीं है उनसे मिलने का वो केवल पैसे वालों से ही मिलता है।  परन्तु बुजुर्ग विधवा ने तो जैसे ठान ही लिया था उससे मिलने का।  और पूरे दिन इंतजार करती रही...और जैसे ही न्यायी अपना काम पूरा कर घर जाने लगा वो बुजुर्ग विधवा उससे मिलने सामने आ गई और कहने लगी साहब मुझे मुद्दई से बचा लो मेरी रोजी रोटी पर दया करो...न्यायी को ज्यादा देर नहीं लगी यह जानने में की इस विधवा के पास कुछ नहीं है देने को और इसके पीछे और कोई नहीं जो इसकी सहायता करे।  उसने कहा देख तू अपना और मेरा समय बर्बाद मत कर यहाँ से चली जा और दोबारा अपना मुंह मत दिखाना...यह कर्कश शब्द सुनकर उस विधवा की आँखे भर आई...और वो चिल्लाती रही साब जी..साब जी परन्तु वह दुष्ट न्यायी ने एक बार भी मुड़कर नहीं देखा और अपने घर चला गया। 
दूसरे दिन न्यायी जैसे ही सुबह उठकर अपनी खिड़की खोला तो क्या देखता है कि वही विधवा उसके घर के सामने बैठी है...जिसकी उसने कभी कल्पना नहीं की थी... गुस्से में आगबबुला होकर न्यायी ने चिल्लाया अरे बुढ़िया तुझे सुनाई नहीं देता...मैंने तुझसे कल क्या कहा था...विधवा ने बड़ी नम्रता से कहा साहब मेरा न्याय चूका दो...न्यायी ने अपनी खिड़की जोर से बंद की और बडबडाता हुआ दूसरी ओर चला गया।  
अब तो जैसे यह सिलसिला सा चल पड़ा यह न्यायी जहाँ भी जाता उस बुजुर्ग विधवा को दोनों हाथ जोड़े और विनती करते हुए पाता साब जी मेरा न्याय चुका दो...अनेको बार मना कर देने के बाद न्यायी तंग हो गया अब तो जैसे उसे डर लगने लगा कि कहीं वह इस मार्ग में होगी या उस मार्ग में कौन से मार्ग से जाऊं कहाँ भागूं। परन्तु उस विधवा को न्याय मांगने में कोई शर्म नहीं थी । 
       एक दिन वह घर में अकेले बैठ कर सोचने लगा मैं एक ऐसा व्यक्ति हूँ जो परमेश्वर से भी नहीं डरता और न किसी मनुष्य से डरता हूँ परन्तु इस विधवा स्त्री ने तो मेरे नाक में दम कर दिया है।  मैं कैसे इससे अपना पीछा छुड़ाऊं... हाँ!!! मैं एक काम करूँगा मैं इसका न्याय बिना पैसे के चुका दूंगा...

प्रभु यीशु ने इस कहानी का निष्कर्ष निकालते हुए बताया देखो यह दुष्ट न्यायी क्या कहता है जब विधवा के द्वारा  बार बार बिना शर्म के मांगने से विनती करने से यह दुष्ट न्यायी का मन भी पिघल गया और वह उसका न्याय चुका दिया तो क्या तुम जो परमेश्वर की सन्तान हो अपने पिता से लगातार दिन रात विनती करते रहते हो क्या वह नहीं सुनेगा क्या वह देर करेगा...दुसरे शब्दों में क्या वह इस दुष्ट न्यायी से भी ज्यादा बुरा है जो तुम उससे मांगते रहते हो और वह अनसुनी करेगा....कदापि नहीं हमारा परमेश्वर तो दयालु है वह बिलकुल भी देर नहीं करेगा वरन वह चाहता है और प्रतिज्ञा करता है मागों तो तुम्हे दिया जाएगा...तुमने माँगा नहीं इसलिए पाया नहीं...
प्रभु आपको आशीष दे...

इन कहानियों को भी अवश्य पढ़ें 

मोम का पुतला 
मेरी प्यारी नांव 
नौकर या मालिक 
यहोवा चरवाहा मेरा 
अपना अपना नजरिया 




यदि आपके पास हिंदी में कोई सरमन, प्रेरणादायक कहानी, आपकी लिखी कविता या रोचक जानकारी है, जो आप सभी के लिए आशीष के लिए हमारे साथ सेयर करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल करें। हमारी id है: rajeshkumarbavaria@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ पब्लिश करेंगे धन्यवाद!!

No comments:

Post a Comment

Thanks for Reading... यदि आपको ये कहानी अच्छी लगी है तो कृपया इसे अपने मित्रो को शेयर करें..धन्यवाद

मित्रों कई बार हमारे मनो में ख्याल आता है, कि हमें बाइबल क्यों पढना चाहिए?  इसके लिए बाइबल से ही मैं आपको जवाब देना चाहती हूँ मैं ...

Followers